Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

Dr अरुण कुमार शास्त्री

Dr अरुण कुमार शास्त्री
बरसते सावन में भी कभी आग लगा करती है ।
गीली लकड़ियाँ भी बेबाक भड़क उठती हैं ।
भरोसा कीजिये किरदार पर ए भोले साजना ।
बिना पानी के भी किस्मत वालों की नाव चला करती है।

2 Likes · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
"भुला ना सके"
Dr. Kishan tandon kranti
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
*Author प्रणय प्रभात*
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
Sarfaraz Ahmed Aasee
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
शुक्र मनाओ आप
शुक्र मनाओ आप
शेखर सिंह
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
Manoj Mahato
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
स्नेह का बंधन
स्नेह का बंधन
Dr.Priya Soni Khare
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
*अभिनंदन उनका करें, जो हैं पलटूमार (हास्य कुंडलिया)*
*अभिनंदन उनका करें, जो हैं पलटूमार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
डॉ.सीमा अग्रवाल
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
बहुत दम हो गए
बहुत दम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी ऐसा लगता है
Suryakant Dwivedi
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Nonveg-Love
Nonveg-Love
Ravi Betulwala
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
Sandeep Mishra
Loading...