Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

Dard-e-Madhushala

Dard-e-Madhushala

Language: Hindi
46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
Sonu sugandh
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
Paras Nath Jha
■ बेबी नज़्म...
■ बेबी नज़्म...
*Author प्रणय प्रभात*
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
💐अज्ञात के प्रति-78💐
💐अज्ञात के प्रति-78💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
Anand Sharma
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
gurudeenverma198
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
डायरी भर गई
डायरी भर गई
Dr. Meenakshi Sharma
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भोर होने से पहले .....
भोर होने से पहले .....
sushil sarna
तलाक़ का जश्न…
तलाक़ का जश्न…
Anand Kumar
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौन
मौन
Shyam Sundar Subramanian
शीर्षक – वह दूब सी
शीर्षक – वह दूब सी
Manju sagar
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
"पनाहों में"
Dr. Kishan tandon kranti
*छिपी रहती सरल चेहरों के, पीछे होशियारी है (हिंदी गजल)*
*छिपी रहती सरल चेहरों के, पीछे होशियारी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
Loading...