Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

Bhut khilliya udwa li khud ki gairo se ,

Bhut khilliya udwa li khud ki gairo se ,
Ab asman ko ret se milana h .
Bahut bhar chuke dane se tokri ,
Ab hausle se nayi umeed jagana h .
😍 by sakshi

104 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
Anis Shah
💐प्रेम कौतुक-161💐
💐प्रेम कौतुक-161💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
रंग भरी एकादशी
रंग भरी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■सीखने योग्य■
■सीखने योग्य■
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ बात करो, कुछ बात करो
कुछ बात करो, कुछ बात करो
Shyam Sundar Subramanian
*हारो तो उठकर करो, दूने श्रम से काम (कुंडलिया)*
*हारो तो उठकर करो, दूने श्रम से काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
Dr fauzia Naseem shad
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
नेहा सिंह राठौर
नेहा सिंह राठौर
Shekhar Chandra Mitra
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
“SAUDI ARABIA HAS TWO SETS OF TEETH-ONE TO SHOW OFF AND THE OTHER TO CHEW WITH “
“SAUDI ARABIA HAS TWO SETS OF TEETH-ONE TO SHOW OFF AND THE OTHER TO CHEW WITH “
DrLakshman Jha Parimal
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
Shashi kala vyas
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
"क्रियात्मकता के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं और तुम-कविता
मैं और तुम-कविता
Shyam Pandey
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
"Teri kaamyaabi par tareef, tere koshish par taana hoga,
कवि दीपक बवेजा
जब से मेरी आशिकी,
जब से मेरी आशिकी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एकांत बनाम एकाकीपन
एकांत बनाम एकाकीपन
Sandeep Pande
नारी उर को
नारी उर को
Satish Srijan
दस्ताने
दस्ताने
Seema gupta,Alwar
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
Loading...