Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

**Be pioneer with a vast movement**

Movement is the event,
First,which should be,
Started from inner,
To remove the garbage,
Of envy,
Of violence,
Of false behaviour,
Of mind set,to oppress people,
And, it is not sufficient,
And other things,
Which effect interior virtues,
Movement, always seeks sacrifice,
To end the evils,
It should be maintained,
With the penance,
Of complacency,
Let not frighten,
All the hurdles,We face,
Because,
The complacent mind is,
Emergent of A pivot movement,
Which annihilate all enemies,
Inner and out,
So,
Be pioneer,
Having lesson from great man.

©Abhishek Parashar 💐💐💐💐💐💐💐

1 Like · 1 Comment · 273 Views
You may also like:
*अग्रसेन जी धन्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
चेहरे पर कई चेहरे ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
खैरियत का जवाब आया
Seema 'Tu haina'
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
✍️फिर भी लगाव✍️
'अशांत' शेखर
मेरी तडपन अब और न बढ़ाओ
Ram Krishan Rastogi
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
'अशांत' शेखर
प्यार को हद मे रहने दो
Anamika Singh
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
एक नारी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
जिन्दगी
Anamika Singh
मंदिर
जगदीश लववंशी
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बुनियाद✍️
'अशांत' शेखर
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
ख्वाब
Anamika Singh
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आईना देखना पहले
gurudeenverma198
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
Loading...