Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

Agar padhne wala kabil ho ,

Agar padhne wala kabil ho ,
To najro ki kashmakash bhi pdhi ja skti h .
Kitabe to kitabe hoti h ,
Chahe panno ki ho ya sakhsiyat ki 😍
By sakshi

1 Like · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बादल  खुशबू फूल  हवा  में
बादल खुशबू फूल हवा में
shabina. Naaz
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
प्रदीप कुमार गुप्ता
दोस्ती
दोस्ती
Rajni kapoor
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
दोस्ती
दोस्ती
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
राजा यह फल का हुआ, कहलाता है आम (कुंडलिया)
राजा यह फल का हुआ, कहलाता है आम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
2328.पूर्णिका
2328.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सनम  ऐसे ना मुझको  बुलाया करो।
सनम ऐसे ना मुझको बुलाया करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मेरी अंतरात्मा..
मेरी अंतरात्मा..
Ms.Ankit Halke jha
हवा की डाली
हवा की डाली
Dr. Rajiv
■ आग लगाऊ मीडिया
■ आग लगाऊ मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-348💐
💐प्रेम कौतुक-348💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
Shashi kala vyas
सच और हकीकत
सच और हकीकत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रहस्य
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
Shyam Pandey
हम जाति से शुद्र नहीं थे. हम कर्म से शुद्र थे, पर बाबा साहब
हम जाति से शुद्र नहीं थे. हम कर्म से शुद्र थे, पर बाबा साहब
जय लगन कुमार हैप्पी
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
कभी आधा पौन कभी पुरनम, नित नव रूप निखरता है
कभी आधा पौन कभी पुरनम, नित नव रूप निखरता है
हरवंश हृदय
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लहरों पर चलता जीवन
लहरों पर चलता जीवन
मनोज कर्ण
भक्त गोरा कुम्हार
भक्त गोरा कुम्हार
Pravesh Shinde
अपनेपन का मुखौटा
अपनेपन का मुखौटा
Manisha Manjari
तहरीर
तहरीर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...