Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

Advice

Do not ponder into past and dream of future. Be alert in present which will make your present pleasant and help in building a good future based on your favourable present.

Language: English
Tag: Advice
157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
सत्य कुमार प्रेमी
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
मेरा प्रेम पत्र
मेरा प्रेम पत्र
डी. के. निवातिया
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
जब मैं परदेश जाऊं
जब मैं परदेश जाऊं
gurudeenverma198
रात
रात
SHAMA PARVEEN
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
जो  रहते हैं  पर्दा डाले
जो रहते हैं पर्दा डाले
Dr Archana Gupta
कमली हुई तेरे प्यार की
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
3061.*पूर्णिका*
3061.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जून की कड़ी दुपहरी
जून की कड़ी दुपहरी
Awadhesh Singh
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मेघों का इंतजार है
मेघों का इंतजार है
VINOD CHAUHAN
उनको देखा तो हुआ,
उनको देखा तो हुआ,
sushil sarna
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
Loading...