Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2023 · 1 min read

93. ये खत मोहब्बत के

तू मेरी राधा,
मैं तेरा कृष्णा ।
तेरा ही लगा है,
मुझको ये तृष्णा ।।

जाने अनजाने में जानम ,
मैं तुमसे प्यार कर बैठा हूँ ।
क्या गुस्ताखी हो गई मुझसे ?
जो तुझसे आँखें चार कर बैठा हूँ ।।

मैं प्रेम करता हूँ तुमसे,
तुम क्यों, करती हो नफरत ?
तेरा दिल मैं जीतने का,
रखता हूँ सदा हसरत ।।

नाराज ना होना मुझसे तुम,
करता हूँ मोहब्बत तुमसे ।
तेरे प्यार में पागल हो गया हूँ,
देखा हूँ तुमको जबसे ।।

तुझे अपना बनाऊँगा,
मैंने कह दिया है रबसे ।
मेरा प्रेम इतिहास बनेगा,
ऐलान कर दिया मैं सबसे ।।

मुझे जो ना मिली तुम तो,
मैं अपनी जान दे दूँगा ।
जाते जाते मैं तुझको,
अपनी मोहब्बत का ईनाम दे दूँगा ।।

आने वाला कल मेरे,
इस पल को याद करेंगे ।
चाहे तो इससे दुर रहेंगे,
नहीं तो टूट पड़ेंगे ।।

कवि – मनमोहन कृष्ण
तारीख – 31/01/2021
समय – 04 : 24 ( शाम )
संपर्क – 9065388391

Language: Hindi
200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर जो आली-मकाम होता है
दर जो आली-मकाम होता है
Anis Shah
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
शेखर सिंह
कलियुग है
कलियुग है
Sanjay ' शून्य'
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
Er. Sanjay Shrivastava
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
Mahima shukla
*दया*
*दया*
Dushyant Kumar
आत्मा की अभिलाषा
आत्मा की अभिलाषा
Dr. Kishan tandon kranti
पढ़े-लिखे पर मूढ़
पढ़े-लिखे पर मूढ़
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
International Day Against Drug Abuse
International Day Against Drug Abuse
Tushar Jagawat
2766. *पूर्णिका*
2766. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिव शून्य है,
शिव शून्य है,
पूर्वार्थ
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
जिसकी जुस्तजू थी,वो करीब आने लगे हैं।
जिसकी जुस्तजू थी,वो करीब आने लगे हैं।
करन ''केसरा''
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
"किसने कहा कि-
*Author प्रणय प्रभात*
अधूरा प्रेम
अधूरा प्रेम
Mangilal 713
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
ज़िंदगी मो'तबर
ज़िंदगी मो'तबर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...