Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

6) जाने क्यों

जाने क्यों
मन व्याकुल रहता है,
क्या क्या ये सोचता है,
कहूँ किससे
ये कहाँ समझ आता है,
बीच समन्दर में कश्ती
जैसे हिचकोले खाता है,
डर डरकर लहरों को
बस देखता जाता है,
कहीं तूफान न आ जाए
यही सोचता रहता है,
डरता जब तूफानों से
प्रभू का नाम रटता है,
हर सांस में पुकार है
देव से समाधान मांगता है,
कब, क्यों, कैसे, कहाँ के
सवालों से घिरा रहता है,
उत्तर प्रतिउत्तर के द्वंद में
उलझा उलझा सा रहता है,

ये मन अपनों में
अपना ढूंढता रहता है,
कहने को तो कई अपने हैं
पर अपनापन कहाँ दिखता है,
जाने क्यों
मन व्याकुल सा रहता है।

–पूनम झा ‘प्रथमा’
जयपुर, राजस्थान

Mob-Wats – 9414875654
Email – poonamjha14869@gmail.com

Language: Hindi
68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आ गए चुनाव
आ गए चुनाव
Sandeep Pande
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
Sangeeta Beniwal
लोग कहते हैं मैं कड़वी जबान रखता हूँ
लोग कहते हैं मैं कड़वी जबान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
पैसा
पैसा
Sanjay ' शून्य'
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का  खेल।
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का खेल।
Manoj Mahato
जहाँ खुदा है
जहाँ खुदा है
शेखर सिंह
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
डॉ.सीमा अग्रवाल
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
Indu Singh
स्वप्न ....
स्वप्न ....
sushil sarna
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
gurudeenverma198
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
Ravi Prakash
इंसान की भूख कामनाएं बढ़ाती है।
इंसान की भूख कामनाएं बढ़ाती है।
Rj Anand Prajapati
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"कड़वी ज़ुबान"
Yogendra Chaturwedi
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
Surinder blackpen
Loading...