Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

3261.*पूर्णिका*

3261.*पूर्णिका*
🌷 सोच समझ कर कदम उठाते 🌷
22 22 22 22
सोच समझ कर कदम उठाते।
दुनिया देख सफलता पाते ।।
आना कानी मत कर प्यारे ।
सच में झूठ विफलता पाते ।।
जीवन भर है आनंद यहाँ ।
हर पथ कठिन सरलता पाते ।।
नेक जहाँ जब रखते नीयत ।
हरदम मन संबलता पाते ।।
महके चहके देखो खेदू।
दिल भी चमन मचलता पाते ।।
……..✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
11-04-2024गुरुवार

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सत्य"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
Sometimes people  think they fell in love with you because t
Sometimes people think they fell in love with you because t
पूर्वार्थ
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
"सफर अधूरा है"
Dr. Kishan tandon kranti
शारदीय नवरात्र
शारदीय नवरात्र
Neeraj Agarwal
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
कर
कर
Neelam Sharma
🙅न्यूज़ ऑफ द वीक🙅
🙅न्यूज़ ऑफ द वीक🙅
*प्रणय प्रभात*
मौन
मौन
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
Jogendar singh
2497.पूर्णिका
2497.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
gurudeenverma198
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
सत्य कुमार प्रेमी
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
भ्रष्ट नेताओं,भ्रष्टाचारी लोगों
भ्रष्ट नेताओं,भ्रष्टाचारी लोगों
Dr. Man Mohan Krishna
05/05/2024
05/05/2024
Satyaveer vaishnav
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
Akash Agam
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
Sonam Puneet Dubey
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
.
.
Ragini Kumari
Loading...