Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

3256.*पूर्णिका*

3256.*पूर्णिका*
🌷 चैन की बंसी बजाते रहिए 🌷
2122 2122 22
चैन की बंसी बजाते रहिए ।
रोज यूं महफिल सजाते रहिए ।।
देखती है काम ये दुनिया भी ।
पार दरिया बस लगाते रहिए ।।
सोच साथी साथ बढ़ते हरदम।
राह नव अपनी बनाते रहिए ।।
वक्त नहीं है पास अपने देखो ।
बेवजह ना सर खपाते रहिए ।।
बदलते हैं नजरिया सच खेदू ।
नजर पर नजरें गड़ाते रहिए ।।
…………✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
10-04-2024बुधवार

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
One day you will realized that happiness was never about fin
One day you will realized that happiness was never about fin
पूर्वार्थ
अनमोल मोती
अनमोल मोती
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
goutam shaw
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रेम जीवन में सार
प्रेम जीवन में सार
Dr.sima
मसला
मसला
Dr. Kishan tandon kranti
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
Bimal Rajak
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
वो ओस की बूंदे और यादें
वो ओस की बूंदे और यादें
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
गीत
गीत
Shiva Awasthi
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#इंतज़ार_जारी
#इंतज़ार_जारी
*प्रणय प्रभात*
2878.*पूर्णिका*
2878.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरा यार
मेरा यार
rkchaudhary2012
झूठी है यह सम्पदा,
झूठी है यह सम्पदा,
sushil sarna
Loading...