Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

3250.*पूर्णिका*

3250.*पूर्णिका*
🌷 सब कुछ जानती है जनता 🌷
22 2122 22
सब कुछ जानती है जनता ।
सीना तानती है जनता।।
सब सुख भोगते है नेता।
सच पहचानती है जनता।।
क्या है हक हकीकत जग में ।
सबको मानती है जनता।।
जीवन आज रंग बिरंगे।
दुनिया छानती है जनता।।
हिल जाती सत्ता भी खेदू।
जब जब ठानती है जनता।।
……….✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
09-04-2024मंगलवार

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कंचन काया की कब दावत होगी*
*कंचन काया की कब दावत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
धर्म सवैया
धर्म सवैया
Neelam Sharma
गांव
गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
हवस
हवस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
*** तस्वीर....!!! ***
*** तस्वीर....!!! ***
VEDANTA PATEL
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
भाग्य - कर्म
भाग्य - कर्म
Buddha Prakash
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
तू है
तू है
Satish Srijan
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"जख्म"
Dr. Kishan tandon kranti
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
surenderpal vaidya
मेरा कौन यहाँ 🙏
मेरा कौन यहाँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
NUMB
NUMB
Vedha Singh
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
#फ़र्ज़ी_उपाधि
#फ़र्ज़ी_उपाधि
*प्रणय प्रभात*
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
Loading...