Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

3240.*पूर्णिका*

3240.*पूर्णिका*
🌷 बांटे हिस्सा अपना🌷
2212 22
बांटे हिस्सा अपना।
सुंदर किस्सा अपना।।
साथी यहाँ कोई ।
कहते किस्सा अपना।।
ये आज है दुनिया ।
जीवन किस्सा अपना।।
महके चमन देखो।
खिलते किस्सा अपना ।।
मस्त नजर है खेदू।
प्यारा किस्सा अपना।।
……….✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
06-04-2024शनिवार

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
3434⚘ *पूर्णिका* ⚘
3434⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
gurudeenverma198
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
गूँगी गुड़िया ...
गूँगी गुड़िया ...
sushil sarna
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
Priya princess panwar
कहता है सिपाही
कहता है सिपाही
Vandna thakur
बना रही थी संवेदनशील मुझे
बना रही थी संवेदनशील मुझे
Buddha Prakash
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
गरीबी मैं खानदानी हूँ
गरीबी मैं खानदानी हूँ
Neeraj Mishra " नीर "
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
Shweta Soni
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
shabina. Naaz
तुम जिंदा हो इसका प्रमाड़ दर्द है l
तुम जिंदा हो इसका प्रमाड़ दर्द है l
Ranjeet kumar patre
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
*प्रणय प्रभात*
जयंत (कौआ) के कथा।
जयंत (कौआ) के कथा।
Acharya Rama Nand Mandal
"बखान"
Dr. Kishan tandon kranti
उमर भर की जुदाई
उमर भर की जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...