Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

3234.*पूर्णिका*

3234.*पूर्णिका*
🌷 हम खरा उतरने की कोशिश करते हैं🌷
212 2122 22 22
हम खरा उतरने की कोशिश करते हैं।
बात ही बात में कोशिश करते हैं।।

लोग सब समझते ये दुनियादारी ।
सच जहाँ जानकर कोशिश करते हैं ।।

प्यार का चमन महके हसरत अपनी।
बस रहे नेक दिल कोशिश करते हैं ।।

जिंदगी जिंदगी जैसी हो हरदम ।
ले सके फैसला कोशिश करते हैं।।

तोड़ते आज खेदू दीवार यहाँ ।
यूं मिटे नफरतें कोशिश करते हैं ।।
………✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
05-04-2024शुक्रवार

21 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन
मौन
लक्ष्मी सिंह
😢 अच्छे दिन....?
😢 अच्छे दिन....?
*Author प्रणय प्रभात*
*रामपुर दरबार-हॉल में वाद्य यंत्र बजाती महिला की सुंदर मूर्त
*रामपुर दरबार-हॉल में वाद्य यंत्र बजाती महिला की सुंदर मूर्त
Ravi Prakash
मां का हृदय
मां का हृदय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इस तरह कुछ लोग हमसे
इस तरह कुछ लोग हमसे
Anis Shah
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
इस तरह बदल गया मेरा विचार
इस तरह बदल गया मेरा विचार
gurudeenverma198
"देखो"
Dr. Kishan tandon kranti
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
दो पाटन की चक्की
दो पाटन की चक्की
Harminder Kaur
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
2689.*पूर्णिका*
2689.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*वह अनाथ चिड़िया*
*वह अनाथ चिड़िया*
Mukta Rashmi
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
न कोई काम करेंगें,आओ
न कोई काम करेंगें,आओ
Shweta Soni
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
"संवाद "
DrLakshman Jha Parimal
???
???
शेखर सिंह
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
छोटे छोटे सपने
छोटे छोटे सपने
Satish Srijan
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
अंसार एटवी
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
वो ख्वाब
वो ख्वाब
Mahender Singh
Loading...