Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2024 · 1 min read

3206.*पूर्णिका*

3206.*पूर्णिका*
🌷 कोई करीबी की बात करते🌷
2212 22 2122
कोई करीबी की बात करते ।
कोई गरीबी की बात करते ।।
सौगात मिलती है जिंदगी में ।
कुछ खुशनसीबी की बात करते।।
जिंदादिली देखो खूबसूरत ।
दिलवर हबीबी की बात करते।।
मंजिल यहाँ मिलती मेहनत से ।
राही रकीबी की बात करते ।।
दिल से लिखे जब खेदू इबारत ।
दुनिया नजीबी की बात करते ।।
………✍ डॉ. खेदू भारती “सत्येश”
29-03-2024शुक्रवार

37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2333.पूर्णिका
2333.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* मायने हैं *
* मायने हैं *
surenderpal vaidya
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
■ वंदन-अभिनंदन
■ वंदन-अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
*Maturation*
*Maturation*
Poonam Matia
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
*वाह-वाह क्या बात ! (कुंडलिया)*
*वाह-वाह क्या बात ! (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फिर जनता की आवाज बना
फिर जनता की आवाज बना
vishnushankartripathi7
शिव छन्द
शिव छन्द
Neelam Sharma
जब भी
जब भी
Dr fauzia Naseem shad
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
"मैं-मैं का शोर"
Dr. Kishan tandon kranti
एक अधूरे सफ़र के
एक अधूरे सफ़र के
हिमांशु Kulshrestha
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
Anil Mishra Prahari
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
Anil chobisa
...........
...........
शेखर सिंह
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
Rajni kapoor
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
क्रांतिवीर नारायण सिंह
क्रांतिवीर नारायण सिंह
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...