Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

3185.*पूर्णिका*

3185.*पूर्णिका*
🌷 यूं वक्त गुजर जाता है🌷
22 212 22
यूं वक्त गुजर जाता है ।
सच मन सुधर जाता है ।।
दुनिया रंग में रंगे ।
बिन कह असर जाता है ।।
महके जिंदगी सबकी ।
छोड़े कसर जाता है ।।
बीते सुन कहानी अब।
जीवन बसर जाता है ।।
खुशियाँ बस मिले खेदू।
गम भी बिखर जाता है ।।
……..✍ डॉ .खेदूभारती”सत्येश”
25-03-2024सोमवार

1 Like · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बारह ज्योतिर्लिंग
बारह ज्योतिर्लिंग
सत्य कुमार प्रेमी
कविता
कविता
Shiv yadav
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
"" *श्रीमद्भगवद्गीता* ""
सुनीलानंद महंत
दो कदम
दो कदम
Dr fauzia Naseem shad
नूर ए मुजस्सम सा चेहरा है।
नूर ए मुजस्सम सा चेहरा है।
Taj Mohammad
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
कवि दीपक बवेजा
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
"कर्म और भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
शेखर सिंह
नादानी
नादानी
Shaily
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
Sushila joshi
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
yuvraj gautam
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बारिश में नहा कर
बारिश में नहा कर
A🇨🇭maanush
अंधेरे आते हैं. . . .
अंधेरे आते हैं. . . .
sushil sarna
■ जय जय शनिदेव...
■ जय जय शनिदेव...
*Author प्रणय प्रभात*
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
Atul "Krishn"
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
Neeraj Agarwal
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
Loading...