Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

3145.*पूर्णिका*

3145.*पूर्णिका*
🌷 जब खुशियों की बारिश हुई🌷
22 22 2212
जब खुशियों की बारिश हुई ।
तब यूं पूरी ख्वाहिश हुई ।।
देखो दुनिया का साथ है ।
मिलकर अपनी कोशिश हुई ।।
भागम-भाग रहे रातदिन ।
ये जर्जर सड़क पालिश हुई।।
इंसाफ मिला है झूठ क्या।
जगह जगह सच नालिश हुई ।।
अब खुश है खेदू जिंदगी।
दे ताली फरमाईश हुई ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-03-2024मंगलवार

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
२९०८/२०२३
२९०८/२०२३
कार्तिक नितिन शर्मा
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
surenderpal vaidya
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
--: पत्थर  :--
--: पत्थर :--
Dhirendra Singh
The thing which is there is not wanted
The thing which is there is not wanted
कवि दीपक बवेजा
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
Madhuyanka Raj
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
Sukoon
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
"गम"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे
दोहे
Santosh Soni
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
एक हैसियत
एक हैसियत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
खुल के सच को अगर कहा जाए
खुल के सच को अगर कहा जाए
Dr fauzia Naseem shad
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चार यार
चार यार
Bodhisatva kastooriya
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
VEDANTA PATEL
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Shyam Sundar Subramanian
★गैर★
★गैर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■आज पता चला■
■आज पता चला■
*Author प्रणय प्रभात*
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
Loading...