Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2024 · 1 min read

3134.*पूर्णिका*

3134.*पूर्णिका*
🌷 मीठे बोल ही बोले🌷
22 212 22
मीठे बोल ही बोले।
घुलमिल घोल ही घोले।।
अपना क्या यहाँ देखो।
दुनिया झोल ही झोले।।
दिल खाली खजाना है ।
खाली खोल ही खोले।।
बदले रंग यूं मौसम ।
मन में गोल ही गोले।।
पनघट की डगर खेदू।
जल अनमोल ही मोले।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
17-03-2024रविवार

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
लतियाते रहिये
लतियाते रहिये
विजय कुमार नामदेव
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
2813. *पूर्णिका*
2813. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जमाना खराब है
जमाना खराब है
Ritu Asooja
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
*प्रणय प्रभात*
ओ चंदा मामा!
ओ चंदा मामा!
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
बड़ा काफ़िर
बड़ा काफ़िर
हिमांशु Kulshrestha
खुशियां
खुशियां
N manglam
बम भोले।
बम भोले।
Anil Mishra Prahari
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
ज्योति
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
Phool gufran
सुबह की नमस्ते
सुबह की नमस्ते
Neeraj Agarwal
Love's Burden
Love's Burden
Vedha Singh
संस्कार
संस्कार
Rituraj shivem verma
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Sukoon
संस्कारों को भूल रहे हैं
संस्कारों को भूल रहे हैं
VINOD CHAUHAN
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
Shweta Soni
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...