Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

3128.*पूर्णिका*

3128.*पूर्णिका*
🌷 जो है नहीं होती चर्चा🌷
2212 2212
जो है नहीं होती चर्चा।
बस बंटती उसकी पर्चा ।।
यूं शान में देखो मस्ती ।
सब खूब ही करते खर्चा।।
ये नाम है बदनाम क्या ।
औकात है लेते कर्जा ।।
बचते कहाँ कब जान भी ।
रहते हिलाते कल पुर्जा ।।
कहते नहीं खेदू यहाँ ।
सुन बांग तू देते मुर्गा।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
16-03-2024शनिवार

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
--शेखर सिंह
--शेखर सिंह
शेखर सिंह
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां  ,
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां ,
Neelofar Khan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
6. *माता-पिता*
6. *माता-पिता*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
यूँ तो बिखरे हैं
यूँ तो बिखरे हैं
हिमांशु Kulshrestha
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ये
ये
Shweta Soni
"दरअसल"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
गीत
गीत "आती है अब उनको बदबू, माॅ बाबा के कमरे से"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राखी (कुण्डलिया)
राखी (कुण्डलिया)
नाथ सोनांचली
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नमन उस वीर को शत-शत...
नमन उस वीर को शत-शत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
😊😊😊
😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
खिड़की के बाहर दिखती पहाड़ी
खिड़की के बाहर दिखती पहाड़ी
Awadhesh Singh
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
Meenakshi Masoom
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नींद आज नाराज हो गई,
नींद आज नाराज हो गई,
Vindhya Prakash Mishra
Loading...