Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2024 · 1 min read

3097.*पूर्णिका*

3097.*पूर्णिका*
🌷 मन मस्ताना होता है🌷
212 22 22
मन मस्ताना होता है ।
गुल खिलाना होता है ।।
रात भी हंसीं अपनी ।
दिन सुहाना होता है ।।
साथ मिलता साथी का।
पल बिताना होता है ।।
प्यार से बनती दुनिया ।
मस्त बनाना होता है ।।
जिंदगी प्यारी खेदू ।
दिल लगाना होता है ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
09-03-2024शनिवार

1 Like · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
राम लला
राम लला
Satyaveer vaishnav
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
कुछ पाने के लिए कुछ ना कुछ खोना पड़ता है,
कुछ पाने के लिए कुछ ना कुछ खोना पड़ता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
शिव प्रताप लोधी
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
#जयंती_आज
#जयंती_आज
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी का भरोसा कहां
जिंदगी का भरोसा कहां
Surinder blackpen
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*वकीलों की वकीलगिरी*
*वकीलों की वकीलगिरी*
Dushyant Kumar
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
पूर्वार्थ
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
Bindesh kumar jha
Bindesh kumar jha
Bindesh kumar jha
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
आर.एस. 'प्रीतम'
*प्रबल हैं भाव भक्तों के, प्रभु-दर्शन जो आते हैं (मुक्तक )*
*प्रबल हैं भाव भक्तों के, प्रभु-दर्शन जो आते हैं (मुक्तक )*
Ravi Prakash
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
अजीब हालत है मेरे दिल की
अजीब हालत है मेरे दिल की
Phool gufran
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
3057.*पूर्णिका*
3057.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
"बेस्ट पुलिसिंग"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...