Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2024 · 1 min read

3093.*पूर्णिका*

3093.*पूर्णिका*
🌷 कुछ पाना कुछ खोना है जिंदगी🌷
22 22 22 2212
कुछ पाना कुछ खोना है जिंदगी।हँसे दुनिया रोना है जिंदगी ।।
देखो बदले अपनी ये किस्मत भी।
यूं जाग यहाँ सोना है जिंदगी।।
आकर महके खुशियाँ सुमन सा।
बस बीज जहाँ बोना है जिंदगी।।
खून पसीना रोज तपे आग में ।
रोटी जैसे पोना है जिंदगी।।
आज विद्यार्थी खेदू इतिहास के ।
पढ़ कर जग संजोना है जिंदगी ।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
09-03-2024शनिवार

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मॉर्निंग वॉक
मॉर्निंग वॉक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
विनोद सिल्ला
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*शर्म-हया*
*शर्म-हया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
#शारदीय_नवरात्रि
#शारदीय_नवरात्रि
*प्रणय प्रभात*
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
बड़ी अजब है जिंदगी,
बड़ी अजब है जिंदगी,
sushil sarna
क्यों बनना गांधारी?
क्यों बनना गांधारी?
Dr. Kishan tandon kranti
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
शेखर सिंह
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़  गया मगर
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़ गया मगर
Shweta Soni
नवजात बहू (लघुकथा)
नवजात बहू (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
वाह भई वाह,,,
वाह भई वाह,,,
Lakhan Yadav
दीदार
दीदार
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
gurudeenverma198
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
Loading...