Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

3085.*पूर्णिका*

3085.*पूर्णिका*
🌷 मेरी आन हो तुम🌷
22 2122
मेरी आन हो तुम।
मेरी शान हो तुम ।।
तुमसे जिंदगी है ।
सच अभिमान हो तुम ।।
दुनिया आज अपनी।
बस पहचान हो तुम ।।
हमको प्यार तुझसे।
क्या अंजान हो तुम ।।
खुशियाँ रोज खेदू।
सजन महान हो तुम ।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
08-03-2024शुक्रवार

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
sandeep kumar Yadav
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
संतोष बरमैया जय
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"अन्तरिक्ष यान"
Dr. Kishan tandon kranti
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
Shweta Soni
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
Shyam Sundar Subramanian
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
खुद को पाने में
खुद को पाने में
Dr fauzia Naseem shad
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Pratibha Pandey
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
रक्षक या भक्षक
रक्षक या भक्षक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
माँ स्कंदमाता की कृपा,
माँ स्कंदमाता की कृपा,
Neelam Sharma
Loading...