Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2024 · 1 min read

3042.*पूर्णिका*

3042.*पूर्णिका*
🌷 खुशियों का पल आता है 🌷
22 22 22 2
खुशियों का पल आता है।
सबके मन को भाता है ।।
प्यारी प्यारी सुबह यहाँ ।
रोज उजाला लाता है ।।
जीवन का आनंद यहाँ ।
नव गीत नया गाता है ।।
सुंदर बदलाव करें हम ।
यूं वक्त आता जाता है ।।
सपनों की दुनिया खेदू।
मन साकार बनाता है ।।
…….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
24-02-2024शनिवार

1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
gurudeenverma198
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
जीत जुनून से तय होती है।
जीत जुनून से तय होती है।
Rj Anand Prajapati
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
Ravi Prakash
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Manisha Manjari
आंधी
आंधी
Aman Sinha
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कृषि पर्व वैशाखी....
कृषि पर्व वैशाखी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
पूर्वार्थ
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
shabina. Naaz
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
थैला
थैला
Satish Srijan
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
Rajesh Kumar Arjun
💐अज्ञात के प्रति-119💐
💐अज्ञात के प्रति-119💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
"मकड़जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
बिस्तर से आशिकी
बिस्तर से आशिकी
Buddha Prakash
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
2635.पूर्णिका
2635.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बिधवा के पियार!
बिधवा के पियार!
Acharya Rama Nand Mandal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...