Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

3026.*पूर्णिका*

3026.*पूर्णिका*
🌷 देखो प्यार मिल गए 🌷
22 212 12
देखो प्यार मिल गए ।
अपना यार मिल गए ।।
महके खूब मन चमन।
नव संसार मिल गए ।।
कुछ भी कम नहीं यहाँ ।
जीवन सार मिल गए ।।
बांटे गम खुशी यहाँ ।
साझेदार मिल गए ।।
खेदू साथ है जहाँ ।
दिल के तार मिल गए ।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-02-2024सोमवार

36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
Rekha Drolia
शरद पूर्णिमा का चांद
शरद पूर्णिमा का चांद
Mukesh Kumar Sonkar
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लड़कियां जिसका भविष्य बना होता है उन्हीं के साथ अपना रिश्ता
लड़कियां जिसका भविष्य बना होता है उन्हीं के साथ अपना रिश्ता
Rj Anand Prajapati
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
२९०८/२०२३
२९०८/२०२३
कार्तिक नितिन शर्मा
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
VINOD CHAUHAN
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
आज का दौर
आज का दौर
Shyam Sundar Subramanian
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
*Author प्रणय प्रभात*
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
gurudeenverma198
मरने से
मरने से
Dr fauzia Naseem shad
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
पूर्वार्थ
मधुमय फागुन क्या करे,प्रियतम बिना उदास(कुंडलिया)
मधुमय फागुन क्या करे,प्रियतम बिना उदास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
कवि दीपक बवेजा
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
सच
सच
Neeraj Agarwal
बहाना मिल जाए
बहाना मिल जाए
Srishty Bansal
💐प्रेम कौतुक-492💐
💐प्रेम कौतुक-492💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"एक जंगल"
Dr. Kishan tandon kranti
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
Suryakant Dwivedi
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...