Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

3) “प्यार भरा ख़त”

ख़त को पकड़ा जो कलम के साथ
प्यार का नज़राना लिखने को मचला।
अहसास किया एक दिन,कुछ नया होगा..
पुराना छोर नया दोर,नई होगी भोर।

प्रफुल्लित होगा जहान..सोच ने सोचा,
जहान ने रोका।
चिंता को छोड़,प्यार की पकड़ी जो डोर,
फिर..किसी ने ना टोका।
बंद खुला द्वार तो रोशन हुआ झरोखा।

चमकती धूप का वह नजराना,
खिड़की से गुजरा तो खिल गया आशियाना।

संगीत बना कर्नफूल,
खिलता हुआ नूर,
अर्शु की बूँद,
जागती और जगाती
मानो जैसे सीप का हो मोती।
मुहब्बत ने राग छेड़ा, गीतों का हुआ बसेरा,
खिलता वं चमकता किरणों का ख़ुशनुमा सवेरा।

अंगड़ाई ने करवट ली,रात दिन में जागी।
लबों पर मुस्कराहट, मीठी सी सिंहर,
भली सी लागी।

मुहब्बत का यह ख़त, लफ़्ज़ों को दिल से जोड़ पाया,
बन गया एक साया,बंधन को तोड़ ना पाया।
सरमाया मुहब्बत का, दिल जान से लिख पाया,
आशा को उम्मीद बनाया, ख़त को डाक तक पहुँचाया।।

✍🏻स्वरचित/मौलिक
सपना अरोरा।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sapna Arora
View all
You may also like:
इंटरनेट
इंटरनेट
Vedha Singh
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
Vindhya Prakash Mishra
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr .Shweta sood 'Madhu'
मन का कारागार
मन का कारागार
Pooja Singh
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
शेखर सिंह
3351.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3351.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
"अमरूद की महिमा..."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
📚पुस्तक📚
📚पुस्तक📚
Dr. Vaishali Verma
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हे वतन तेरे लिए, हे वतन तेरे लिए
हे वतन तेरे लिए, हे वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भगवान बुद्ध
भगवान बुद्ध
Bodhisatva kastooriya
धड़कन की तरह
धड़कन की तरह
Surinder blackpen
"पल-पल है विराट"
Dr. Kishan tandon kranti
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
Dr. Seema Varma
बाकई में मौहब्बत के गुनहगार हो गये हम ।
बाकई में मौहब्बत के गुनहगार हो गये हम ।
Phool gufran
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ
#गौरवमयी_प्रसंग
#गौरवमयी_प्रसंग
*प्रणय प्रभात*
Loading...