Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

2995.*पूर्णिका*

2995.*पूर्णिका*
🌷 जीतता वही जो हार नहीं मानता
212 122 22 2212
जीतता वही जो हार नहीं मानता ।
रोज खुश वही लाचार नहीं मानता ।।
नेक सोच रख के छू लेते आसमां ।
मौज है जिसे संसार नहीं मानता ।।
जागते कहाँ है सोने वाले अक्सर।
नींद में जहाँ बीमार नहीं मानता।।
जिंदगी नहीं खेल तमाशा देखते ।
नेक कदम भी आधार नहीं मानता ।।
महकते चमन देखो यूं खेदू यहाँ ।
फिर क्यों सजन परिवार नहीं मानता ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
10-02-2024शनिवार

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
Ravi Prakash
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
प्रदूषण-जमघट।
प्रदूषण-जमघट।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
Pravesh Shinde
जोश,जूनून भरपूर है,
जोश,जूनून भरपूर है,
Vaishaligoel
अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो - दिनेश शुक्
अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो - दिनेश शुक्
dks.lhp
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
........
........
शेखर सिंह
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
umesh mehra
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
*आँखों से  ना  दूर होती*
*आँखों से ना दूर होती*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"अगर तू अपना है तो एक एहसान कर दे
कवि दीपक बवेजा
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
कवि रमेशराज
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
"आशिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3125.*पूर्णिका*
3125.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोह मोह के चाव में
मोह मोह के चाव में
Harminder Kaur
#ऐसी_कैसी_भूख?
#ऐसी_कैसी_भूख?
*Author प्रणय प्रभात*
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...