Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2024 · 1 min read

2904.*पूर्णिका*

2904.*पूर्णिका*
🌷 मौसम की तरह मन बदले
22 212 22 22
मौसम की तरह मन मन बदले।
बस धोये नहाये तन बदले।।
भटके रोज देखो ये दुनिया।
सच धनवान अपना धन बदले ।।
करते पार दरिया कैसे भी ।
नेकी सोच बनकर घन बदले ।।
वक्त के साथ चलते कौन यहाँ ।
डस ले साँप अपना फन बदले ।।
चलते ठान कर खेदू हरदम ।
आकर देख लो जन जन बदले ।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
05-01-2024शुक्रवार

120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
कविता: घर घर तिरंगा हो।
कविता: घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
गुप्तरत्न
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*सीता (कुंडलिया)*
*सीता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
Neelam Sharma
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
Sunil Maheshwari
'Memories some sweet and some sour..'
'Memories some sweet and some sour..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
रसों में रस बनारस है !
रसों में रस बनारस है !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
Manisha Manjari
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
बेटियां
बेटियां
Neeraj Agarwal
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
आपसा हम जो
आपसा हम जो
Dr fauzia Naseem shad
"कथा" - व्यथा की लिखना - मुश्किल है
Atul "Krishn"
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
Dr. Kishan tandon kranti
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Pratibha Pandey
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पल पल का अस्तित्व
पल पल का अस्तित्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3475🌷 *पूर्णिका* 🌷
3475🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
Loading...