Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

2877.*पूर्णिका*

2877.*पूर्णिका*
🌷 साल बदले हम भी बदले🌷
2122 22 22
साल बदले हम भी बदले।
जिंदगी नव जग भी बदले।।

हौसलों से उड़ते पंछी ।
ये जमीं ये नभ भी बदले।।

फूल प्यारा देखो जैसा।
महकते गुलशन भी बदले।।

संकल्पों का गुंजन अपना।
जन्नत से जन जन भी बदले ।।

लक्ष्य अपना हासिल खेदू ।
सोच बदले मन भी बदले।।
……✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
01-01-2024सोमवार

103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
अहमियत हमसे
अहमियत हमसे
Dr fauzia Naseem shad
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
कविता बाजार
कविता बाजार
साहित्य गौरव
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दस लक्षण पर्व
दस लक्षण पर्व
Seema gupta,Alwar
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
"आत्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ Rãthí
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जीता जग सारा मैंने
जीता जग सारा मैंने
Suryakant Dwivedi
■एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी...
■एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी...
*Author प्रणय प्रभात*
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
Ravi Prakash
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
Dr MusafiR BaithA
बंगाल में जाकर जितनी बार दीदी,
बंगाल में जाकर जितनी बार दीदी,
शेखर सिंह
Laghukatha :-Kindness
Laghukatha :-Kindness
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
నా గ్రామం..
నా గ్రామం..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बहुत प्यार करती है वो सबसे
बहुत प्यार करती है वो सबसे
Surinder blackpen
यादों की किताब पर खिताब
यादों की किताब पर खिताब
Mahender Singh
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
Dr Tabassum Jahan
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2287.
2287.
Dr.Khedu Bharti
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
Loading...