Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2023 · 1 min read

2845.*पूर्णिका*

2845.*पूर्णिका*
🌷 देखा जिसे देखते रहे🌷
2212 212 12
देखा जिसे देखते रहे।
बस प्यार से परखते रहे।।
दुनिया कहीं बदलती यहाँ ।
कागज पन्ने बदलते रहे।।
समझा कहाँ बात दिल यहाँ।
क्या जिंदगी समझते रहे।।
बांटे महक फूल यूं बने।
बगियां जरा महकते रहे।।
अरमान खेदू रखे जहाँ ।
पंछियों सा चहकते रहे।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
21-12-2023गुरुवार

104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
■ जय जय शनिदेव...
■ जय जय शनिदेव...
*Author प्रणय प्रभात*
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
कड़वाहट के मूल में,
कड़वाहट के मूल में,
sushil sarna
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
है मुश्किल दौर सूखी,
है मुश्किल दौर सूखी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सफलता तीन चीजे मांगती है :
सफलता तीन चीजे मांगती है :
GOVIND UIKEY
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
Vishal babu (vishu)
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
Rekha khichi
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
काश! मेरे पंख होते
काश! मेरे पंख होते
Adha Deshwal
माँ दे - दे वरदान ।
माँ दे - दे वरदान ।
Anil Mishra Prahari
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जिंदगी और जीवन में अपना बनाएं.....
जिंदगी और जीवन में अपना बनाएं.....
Neeraj Agarwal
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
சிந்தனை
சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गुमनाम 'बाबा'
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
Y
Y
Rituraj shivem verma
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
"जुल्मो-सितम"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...