Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2023 · 1 min read

2818. *पूर्णिका*

2818. पूर्णिका
रहना तुम बिंदास यहाँ
22 22 22 2
रहना तुम बिंदास यहाँ ।
मंजिल तेरी पास यहाँ ।।
दामन जिसने थामा है ।
करते पूरी आस यहाँ ।।
पूछे क्या है दिल में अब।
चलती जैसे सांस यहाँ ।।
मौका पे चौका मारे ।
बनते सच में खास यहाँ ।।
समझाते जीवन खेदू ।
दुनिया बनती दास यहाँ ।।
…….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
13-12-2023बुधवार

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गम इतने दिए जिंदगी ने
गम इतने दिए जिंदगी ने
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
Love life
Love life
Buddha Prakash
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बोध
बोध
Dr.Pratibha Prakash
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
चलो हमसफर यादों के शहर में
चलो हमसफर यादों के शहर में
गनेश रॉय " रावण "
गीत
गीत
Shiva Awasthi
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
थैला (लघु कथा)
थैला (लघु कथा)
Ravi Prakash
6-जो सच का पैरोकार नहीं
6-जो सच का पैरोकार नहीं
Ajay Kumar Vimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
#फर्क_तो_है
#फर्क_तो_है
*Author प्रणय प्रभात*
🌺प्रेम कौतुक-201🌺
🌺प्रेम कौतुक-201🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
2397.पूर्णिका
2397.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...