Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2023 · 1 min read

2796. *पूर्णिका*

2796. पूर्णिका
रखते पैनी नजर देखिए
22 2212 212
रखते पैनी नजर देखिए ।
कब क्या कहता शजर देखिए ।।
बदली है जिंदगी जिंदगी।
यूं रोज नए फजर देखिए ।।
देती मंजिल जहाँ मेहनत।
खुशियों का बस गजर देखिए ।।
दुनिया दीवानगी की मस्ती।
दीवाना रहगुजर देखिए ।।
संभल खेदू रखे सच कदम ।
ना कुछ हालत जर्जर देखिए ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
06-12-2023बुधवार

145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
★बरसात की टपकती बूंद ★
★बरसात की टपकती बूंद ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
gurudeenverma198
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
पूर्वार्थ
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
दोहे
दोहे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
*Author प्रणय प्रभात*
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
आपने खो दिया अगर खुद को
आपने खो दिया अगर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
वैष्णों भोजन खाइए,
वैष्णों भोजन खाइए,
Satish Srijan
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
*इस बरस*
*इस बरस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
अधीर मन
अधीर मन
manisha
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
Bhupendra Rawat
ये गजल नही मेरा प्यार है
ये गजल नही मेरा प्यार है
Basant Bhagawan Roy
*चले जब देश में अनगिन, लिए चरखा पहन खादी (मुक्तक)*
*चले जब देश में अनगिन, लिए चरखा पहन खादी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
Ram Krishan Rastogi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...