Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2023 · 1 min read

2789. *पूर्णिका*

2789. पूर्णिका
तुम वफा जब करोगे
212 2122
तुम वफा जब करोगे।
यूं नफा तब करोगे।।
बदल कर आज दुनिया।
रोज आगे बस बढ़ोगे।।
साफ दिल रख हमेशा।
साजन नया गढ़ोगे।।
तोड़ना मत भरोसा ।
तुम खुद शिखर चढ़ोगे।।
नेक कर्म रोज खेदू ।
पाठ हरदम पढ़ोगे।।
……✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
05-12-2023मंगलवार

143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
Rakesh Bahanwal
3254.*पूर्णिका*
3254.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
अभी गनीमत है
अभी गनीमत है
शेखर सिंह
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
उस रब की इबादत का
उस रब की इबादत का
Dr fauzia Naseem shad
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
Ravi Prakash
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
लक्ष्मी सिंह
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
Ram Krishan Rastogi
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
कवि रमेशराज
*.....थक सा गया  हू...*
*.....थक सा गया हू...*
Naushaba Suriya
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
■ अटल भरोसा...
■ अटल भरोसा...
*Author प्रणय प्रभात*
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
राखी
राखी
Shashi kala vyas
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
Ashok deep
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
Loading...