Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2023 · 1 min read

2788. *पूर्णिका*

2788. पूर्णिका
जिंदगी में तुम मिल गई हो
212 22 2122
जिंदगी में तुम मिल गई हो ।
तोहफा सा सच मिल गई हो ।।
बदलते मौसम आज देखो।
बस खुशी मेरी, मिल गई हो ।।
काम सफल यहाँ देख मेरा ।
किस्मत बदली यूं मिल गई हो ।।
बरसते बादल झूम कर अब।
चैन सुख सुंदर मिल गई हो ।।
सोच कर खेदू क्या करेगा।
चहकती पंछी मिल गई हो ।।
…….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
05-12-2023मंगलवार

156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
कविता कि प्रेम
कविता कि प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
किससे कहे दिल की बात को हम
किससे कहे दिल की बात को हम
gurudeenverma198
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
गज़ल
गज़ल
सत्य कुमार प्रेमी
सफ़र
सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
VINOD CHAUHAN
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
DrLakshman Jha Parimal
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
****शिक्षक****
****शिक्षक****
Kavita Chouhan
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
"हमदर्दी"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
पूर्वार्थ
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#एक_और_बरसी
#एक_और_बरसी
*Author प्रणय प्रभात*
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कभी कभी पागल होना भी
कभी कभी पागल होना भी
Vandana maurya
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
एक कतरा प्यार
एक कतरा प्यार
Srishty Bansal
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
Loading...