Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2023 · 1 min read

2773. *पूर्णिका*

2773. पूर्णिका
सच सजन दिल के सच्चा बनिए
212 2212 212
सच सजन दिल के सच्चा बनिए।
कान के न कभी कच्चा बनिए।।
हसरतें अपनी बड़ी यूं रखे।
प्यार का बंधन अच्छा बनिए ।।
चुलबुले दुनिया यहाँ मोहते।
बस मजा लेकर बच्चा बनिए।।
पारखी है दोस्त सब परखते।
महकते जीवन चच्चा बनिए ।।
नेकिया खेदू करें रोज ही ।
देख बढ़ न कहीं लुच्चा बनिए ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
28-11-2023मंगलवार

135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Vaishali Verma
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
आसान कहां होती है
आसान कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
2832. *पूर्णिका*
2832. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
जलियांवाला बाग
जलियांवाला बाग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
इस राह चला,उस राह चला
इस राह चला,उस राह चला
TARAN VERMA
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आखिर कब तक
आखिर कब तक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
टूटने का मर्म
टूटने का मर्म
Surinder blackpen
मै बेरोजगारी पर सवार हु
मै बेरोजगारी पर सवार हु
भरत कुमार सोलंकी
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
हम साथ साथ चलेंगे
हम साथ साथ चलेंगे
Kavita Chouhan
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
पता ना चला
पता ना चला
Dr. Kishan tandon kranti
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
जगदीश लववंशी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
*जख्मी मुस्कुराहटें*
*जख्मी मुस्कुराहटें*
Krishna Manshi
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...