Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2023 · 1 min read

2746. *पूर्णिका*

2746. पूर्णिका
सोच बदल जाते हैं
22 22 22
सोच बदल जाते हैं ।
लोग बदल जाते हैं ।।
अजब जमाना देखो।
भोग बदल जाते हैं ।।
पांव जमीं पे रखते ।
जोग बदल जाते हैं ।।
आज हितअहित किसकी ।
मोच बदल जाते हैं ।।
दुनिया अपनी खेदू।
खोज बदल जाते हैं ।।
……….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
21-11-2023मंगलवार

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
वोट का लालच
वोट का लालच
Raju Gajbhiye
"हठी"
Dr. Kishan tandon kranti
Life
Life
Neelam Sharma
पिरामिड -यथार्थ के रंग
पिरामिड -यथार्थ के रंग
sushil sarna
एकतरफ़ा इश्क
एकतरफ़ा इश्क
Dipak Kumar "Girja"
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
चांद शेर
चांद शेर
Bodhisatva kastooriya
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
घनघोर कृतघ्नता के इस
घनघोर कृतघ्नता के इस
*प्रणय प्रभात*
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
Shreedhar
आपके स्वभाव की सहजता
आपके स्वभाव की सहजता
Dr fauzia Naseem shad
कि हम मजदूर है
कि हम मजदूर है
gurudeenverma198
दुनिया से सीखा
दुनिया से सीखा
Surinder blackpen
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
Ravi Prakash
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे मालूम हैं ये रिश्तों की लकीरें
मुझे मालूम हैं ये रिश्तों की लकीरें
VINOD CHAUHAN
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
दरख़्त-ए-जिगर में इक आशियाना रक्खा है,
दरख़्त-ए-जिगर में इक आशियाना रक्खा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
2754. *पूर्णिका*
2754. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
पल-पल यू मरना
पल-पल यू मरना
The_dk_poetry
यायावर
यायावर
Satish Srijan
Loading...