Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

2697.*पूर्णिका*

2697.*पूर्णिका*
हाथ मिला साथ मिला
22 22 22
हाथ मिला साथ मिला ।
खोजा तो नाथ मिला ।।
चलते आगे बढ़ते।
रोज झुका माथ मिला।।
फूलों की तरह बने।
पथगामी पाथ मिला।।
शुक्र है दुनिया सुंदर ।
कोई न अनाथ मिला ।।
बस बांट खुशी खेदू।
साथी जगन्नाथ मिला।।
……….✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
06-11-23 सोमवार

1 Like · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
शिष्टाचार के दीवारों को जब लांघने की चेष्टा करते हैं ..तो दू
शिष्टाचार के दीवारों को जब लांघने की चेष्टा करते हैं ..तो दू
DrLakshman Jha Parimal
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
याद तो हैं ना.…...
याद तो हैं ना.…...
Dr Manju Saini
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
Atul "Krishn"
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
💐प्रेम कौतुक-299💐
💐प्रेम कौतुक-299💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
पीने वाले पर चढ़ा, जादू मदिरापान (कुंडलिया)*
पीने वाले पर चढ़ा, जादू मदिरापान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
Rajesh Kumar Kaurav
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
मुस्कुराकर देखिए /
मुस्कुराकर देखिए /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नशा
नशा
Mamta Rani
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कारोबार
कारोबार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
झुंड
झुंड
Rekha Drolia
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बाल कविता: मोर
बाल कविता: मोर
Rajesh Kumar Arjun
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
Loading...