Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

2695.*पूर्णिका*

2695.*पूर्णिका*
नजरिया बदल जाते हैं
212 212 22
नजरिया बदल जाते हैं ।
डगरिया बदल जाते हैं ।।
चमन की महक में बहके।
नगरिया बदल जाते हैं ।।
छाँव है धूप है देखो।
बदरिया बदल जाते हैं ।।
कारवां बस बढ़े हरदम ।
कमरिया बदल जाते हैं ।।
महल में हम रहे खेदू।
अटरिया बदल जाते हैं ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
06-11-23 सोमवार

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आशा
आशा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ कल तक-
■ कल तक-
*Author प्रणय प्रभात*
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
याचना
याचना
Suryakant Dwivedi
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
इश्क का इंसाफ़।
इश्क का इंसाफ़।
Taj Mohammad
रिटर्न गिफ्ट
रिटर्न गिफ्ट
विनोद सिल्ला
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
पूर्वार्थ
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2960.*पूर्णिका*
2960.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
विज्ञापन
विज्ञापन
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
किताब
किताब
Sûrëkhâ Rãthí
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
Phool gufran
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
Loading...