Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

2693.*पूर्णिका*

2693.*पूर्णिका*
वाहवाही करते
2122 22
वाहवाही करते।
कार्यवाही करते।।
जिंदगी भर रोते।
जो तबाही करते।।
चालबाजी क्या है ।
बस गवाही करते।।
देख कर ये दुनिया ।
दिल निगाही करते ।।
रोज बढ़ते खेदू ।
शंहशाही करते।।
………..✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
06-11-23 सोमवार

153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
#व्यंग्य_काव्य
#व्यंग्य_काव्य
*Author प्रणय प्रभात*
हमारे प्यार का आलम,
हमारे प्यार का आलम,
Satish Srijan
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाँद और इन्सान
चाँद और इन्सान
Kanchan Khanna
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिव्य-दोहे
दिव्य-दोहे
Ramswaroop Dinkar
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
Ranjeet kumar patre
भाप बना पानी सागर से
भाप बना पानी सागर से
AJAY AMITABH SUMAN
There are few moments,
There are few moments,
Sakshi Tripathi
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शीर्षक – मां
शीर्षक – मां
Sonam Puneet Dubey
शे'र
शे'र
Anis Shah
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
सज़ा तुमको तो मिलेगी
सज़ा तुमको तो मिलेगी
gurudeenverma198
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आत्मा की अभिलाषा
आत्मा की अभिलाषा
Dr. Kishan tandon kranti
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
Loading...