Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

2686.*पूर्णिका*

2686.*पूर्णिका*
* मंजिल भी पता पूछते *
22 212 212
मंजिल भी पता पूछते ।
साहिल भी पता पूछते।।
साजिश में यहाँ हसरतें ।
कातिल भी पता पूछते।।
चोटिल देख ले जिंदगी ।
दुनिया भी पता पूछते।।
खिलना छोड़ जाते यहाँ ।
बगियां भी पता पूछते।।
रहते रोज खेदू यहीं ।
साजन भी पता पूछते।।
……….✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
05-11-23 रविवार

184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Prastya...💐
Prastya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुंदरता की देवी 🙏
सुंदरता की देवी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नहीं कोई धरम उनका
नहीं कोई धरम उनका
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
"कुछ रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
*** भूख इक टूकड़े की ,कुत्ते की इच्छा***
*** भूख इक टूकड़े की ,कुत्ते की इच्छा***
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
Aaj kal ke log bhi wafayen kya khoob karte h
Aaj kal ke log bhi wafayen kya khoob karte h
HEBA
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
माँ और बेटी.. दोनों एक ही आबो हवा में सींचे गए पौधे होते हैं
माँ और बेटी.. दोनों एक ही आबो हवा में सींचे गए पौधे होते हैं
Shweta Soni
*बिना तुम्हारे घर के भीतर, अब केवल सन्नाटा है ((गीत)*
*बिना तुम्हारे घर के भीतर, अब केवल सन्नाटा है ((गीत)*
Ravi Prakash
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
DR Arun Kumar shastri
DR Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
Sanjay ' शून्य'
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
छोटी सी दुनिया
छोटी सी दुनिया
shabina. Naaz
Loading...