Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

2670.*पूर्णिका*

2670.*पूर्णिका*
दुनिया प्यारी लगती है
22 22 22 2
🌹⚘⚘⚘⚘🌷🌷🌷
दुनिया प्यारी लगती है ।
बेहद न्यारी लगती है ।।
मंजिल है मंजिल अपनी।
राज दुलारी लगती है ।।
फूल खिले बगियां महके।
यूं बलिहारी लगती है ।।
असली नकली हम जाने ।
चीजें बाजारी लगती है ।।
दामन थामें चल खेदू ।
नब्ज चिन्हारी लगती है ।।
……..✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
01-11-23 बुधवार

120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आराधना
आराधना
Kanchan Khanna
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मत जला जिंदगी मजबूर हो जाऊंगा मैं ,
मत जला जिंदगी मजबूर हो जाऊंगा मैं ,
कवि दीपक बवेजा
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
Er. Sanjay Shrivastava
कलियुग है
कलियुग है
Sanjay ' शून्य'
तानाशाहों का हश्र
तानाशाहों का हश्र
Shekhar Chandra Mitra
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*Author प्रणय प्रभात*
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
umesh mehra
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
Ravi Prakash
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
मन-मंदिर में यादों के नित, दीप जलाया करता हूँ ।
मन-मंदिर में यादों के नित, दीप जलाया करता हूँ ।
Ashok deep
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
बिन माचिस के आग लगा देते हैं
बिन माचिस के आग लगा देते हैं
Ram Krishan Rastogi
स्त्री
स्त्री
Dr fauzia Naseem shad
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
Loading...