Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

2665.*पूर्णिका*

2665.*पूर्णिका*
चांद का दीदार करें
212 22 22
🌹⚘⚘⚘⚘🌷🌷🌷
चांद का दीदार करें।
जिंदगी दिलदार करें।।
जान पहचान बने अब ।
काम भी दमदार करें।।
नामुमकिन नहीं कुछ भी ।
चाहत समझदार करें।।
यूं कहानी हम सुनते ।
वाचन मजेदार करें ।।
बस विश्वास रहे खेदू।
रोज साझेदार करें ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
01-11-23 बुधवार

109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2533.पूर्णिका
2533.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
#बाउंसर :-
#बाउंसर :-
*Author प्रणय प्रभात*
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
DrLakshman Jha Parimal
दिल का मौसम सादा है
दिल का मौसम सादा है
Shweta Soni
शिव शून्य है,
शिव शून्य है,
पूर्वार्थ
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
Sushila joshi
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Sukoon
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
*गाड़ी तन की चल रही, तब तक सबको प्यार (कुंडलिया)*
*गाड़ी तन की चल रही, तब तक सबको प्यार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
जीवन संवाद
जीवन संवाद
Shyam Sundar Subramanian
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
Kanchan Khanna
कचनार
कचनार
Mohan Pandey
6
6
Davina Amar Thakral
अबकी बार निपटा दो,
अबकी बार निपटा दो,
शेखर सिंह
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
Lokesh Singh
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
VINOD CHAUHAN
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
Nitesh Shah
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
Vindhya Prakash Mishra
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
Harminder Kaur
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
Loading...