Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

2663.*पूर्णिका*

2663.*पूर्णिका*
सच भी गुनाहगार हो गए
22 1212 1212
🌹⚘⚘⚘⚘🌷🌷🌷
सच भी गुनाहगार हो गए ।
कहना न अंहकार हो गए ।।
जीता नहीं यहाँ जरा जमीं ।
आज परवरदिगार हो गए ।।
नादान सा रहा बिठा लिया।
जग में बस चमत्कार हो गए ।।
अपना समझ जिसे बना रखा ।
देखो सब नमस्कार हो गए ।।
खेदू मलिक मर्जी करें यहाँ ।
खुद बालम सरकार हो गए ।।
………✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
01-11-23 बुधवार

111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
गृहणी का बुद्ध
गृहणी का बुद्ध
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल "हृद
Radhakishan R. Mundhra
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
हँसाती, रुलाती, आजमाती है जिन्दगी
हँसाती, रुलाती, आजमाती है जिन्दगी
Anil Mishra Prahari
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
स्वयंभू
स्वयंभू
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
आसान कहां होती है
आसान कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
राम है अमोघ शक्ति
राम है अमोघ शक्ति
Kaushal Kumar Pandey आस
प्रश्न  शूल आहत करें,
प्रश्न शूल आहत करें,
sushil sarna
"शख्सियत"
Dr. Kishan tandon kranti
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
*प्रणय प्रभात*
साकार आकार
साकार आकार
Dr. Rajeev Jain
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
Dr. Kishan Karigar
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
Akash Yadav
इस राष्ट्र की तस्वीर, ऐसी हम बनायें
इस राष्ट्र की तस्वीर, ऐसी हम बनायें
gurudeenverma198
ओ मैना चली जा चली जा
ओ मैना चली जा चली जा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
सवाल~
सवाल~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
Loading...