Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

2613.पूर्णिका

2613.पूर्णिका
🌷इस महफिल में शामिल न रहा 🌷
22 22 22 22
इस महफिल में शामिल न रहा।
आज किसी के काबिल न रहा।।
देख पसंद नहीं कुछ भी अब ।
मकसद मेरा हासिल न रहा।।
लोग बजाते ताली हरदम।
दुनिया में ये कातिल न रहा।।
लेकर नाव न पतवार चला।
दरिया दरिया साहिल न रहा।।
अजब कहानी अपनी खेदू।
हम गंवार यहाँ जाहिल न रहा।।
……..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
15-10-2023रविवार

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
दुष्यन्त 'बाबा'
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
“जब से विराजे श्रीराम,
“जब से विराजे श्रीराम,
Dr. Vaishali Verma
अगर ये सर झुके न तेरी बज़्म में ओ दिलरुबा
अगर ये सर झुके न तेरी बज़्म में ओ दिलरुबा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
मेरा बचपन
मेरा बचपन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
Sanjay ' शून्य'
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यह मन
यह मन
gurudeenverma198
*घने मेघों से दिन को रात, करने आ गया सावन (मुक्तक)*
*घने मेघों से दिन को रात, करने आ गया सावन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
Buddha Prakash
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
डर  ....
डर ....
sushil sarna
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
सफ़र से पार पाना चाहता हूँ।
सफ़र से पार पाना चाहता हूँ।
*Author प्रणय प्रभात*
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
शिष्टाचार
शिष्टाचार
लक्ष्मी सिंह
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
Jitendra Chhonkar
अविकसित अपनी सोच को
अविकसित अपनी सोच को
Dr fauzia Naseem shad
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
कवि दीपक बवेजा
"तलाश"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...