Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

2588.पूर्णिका

2588.पूर्णिका
🌷 सच साबित कर जाते🌷
22 22 22
सच साबित कर जाते ।
जीते जी मर जाते ।।
अजब कहानी सबकी ।
बन पापी तर जाते।।
राही भूले भटके ।
दुनिया से डर जाते ।।
आसां हर काम यहाँ ।
फूलों सा झर जाते।।
बदले मंजर खेदू।
यूं नजर जिधर जाते।।
………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
10-10-2023मंगलवार

171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अश्रु की भाषा
अश्रु की भाषा
Shyam Sundar Subramanian
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
तुम अगर कांटे बोओऐ
तुम अगर कांटे बोओऐ
shabina. Naaz
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
शेखर सिंह
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
*ये उन दिनो की बात है*
*ये उन दिनो की बात है*
Shashi kala vyas
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
■ अक़्सर...
■ अक़्सर...
*Author प्रणय प्रभात*
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
2767. *पूर्णिका*
2767. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बाल कविता :भीगी बिल्ली
बाल कविता :भीगी बिल्ली
Ravi Prakash
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हार का पहना हार
हार का पहना हार
Sandeep Pande
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
नारी तुम
नारी तुम
Anju ( Ojhal )
Loading...