Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2023 · 1 min read

2577.पूर्णिका

2577.पूर्णिका
🌷⚘पास आकर दूर जाना नहीं 🌷⚘
2122 2122 12
पास आकर दूर जाना नहीं।
आज यूं मजबूर माना नहीं ।।
खूबसूरत जिंदगी है यहाँ ।
मौत भी मगरूर माना नहीं ।।
चाहते हरदम खुशी बस मिले ।
देख कौन गरूर माना नहीं ।।
बरसते बादल कभी हर जगह ।
रोज गैरजरूर माना नहीं ।।
थाम दामन नेक खेदू बने।
सोच सजन कसूर माना नहीं ।।
………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
8-10-2123रविवार

228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
"दिल कहता है"
Dr. Kishan tandon kranti
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी पर तो
ज़िंदगी पर तो
Dr fauzia Naseem shad
★याद न जाए बीते दिनों की★
★याद न जाए बीते दिनों की★
*Author प्रणय प्रभात*
इज़हार ए मोहब्बत
इज़हार ए मोहब्बत
Surinder blackpen
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
💐Prodigy love-43💐
💐Prodigy love-43💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
मुख्तसर हयात है बाकी
मुख्तसर हयात है बाकी
shabina. Naaz
*फेसबुक पर स्वर्गीय श्री शिव अवतार रस्तोगी सरस जी से संपर्क*
*फेसबुक पर स्वर्गीय श्री शिव अवतार रस्तोगी सरस जी से संपर्क*
Ravi Prakash
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ Rãthí
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हिटलर
हिटलर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
DESH RAJ
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
sushil sarna
Loading...