Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

2533.पूर्णिका

2533.पूर्णिका
🌷फितरत किसी की आजमाते नहीं 🌷
2212 2212 212
फितरत किसी की आजमाते नहीं ।
हम बेवजह यूं गीत गाते नहीं ।।
ए जिंदगी शख्स लाजवाब सबसे।
कोई कहाँ काँटे बिछाते नहीं ।।
सच ही दिलाती मेहनत मंजिलें ।
चाहत कभी भी वक्त बिताते नहीं ।।
अपनी कश्ती पतवार हथियार है ।
दरिया किनारे कब लगाते नहीं ।।
रखते जहाँ खेदू यहाँ हौसला ।
दुनिया कहीं हमको नचाते नहीं ।।
………✍डॉ .खेदू भारती “सतेश”
1-10-2023रविवार

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बंदिशें
बंदिशें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Tarun Singh Pawar
#वाल्मीकि_जयंती
#वाल्मीकि_जयंती
*Author प्रणय प्रभात*
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
2436.पूर्णिका
2436.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हम हिंदुओ का ही हदय
हम हिंदुओ का ही हदय
ओनिका सेतिया 'अनु '
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
People will chase you in 3 conditions
People will chase you in 3 conditions
पूर्वार्थ
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
*किसकी है यह भूमि सब ,किसकी कोठी कार (कुंडलिया)*
*किसकी है यह भूमि सब ,किसकी कोठी कार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
सत्य ही शिव
सत्य ही शिव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Memories
Memories
Sampada
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
gurudeenverma198
देशभक्ति का राग सुनो
देशभक्ति का राग सुनो
Sandeep Pande
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नेता खाते हैं देशी घी
नेता खाते हैं देशी घी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
व्याकुल तू प्रिये
व्याकुल तू प्रिये
Dr.Pratibha Prakash
Loading...