Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2023 · 1 min read

2526.पूर्णिका

2526.पूर्णिका
🌹कसमें खाते 🌹
22 22
कसमें खाते।
मन को भाते।।
रोज उजाला ।
दीप जलाते ।।
भाग्य विधाता ।
दर्पण दिखाते ।।
जीवन प्यारा ।
जग हंसाते ।।
वादा खेदू ।
साथ निभाते ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
30-9-2023शनिवार

149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
आई होली झूम के
आई होली झूम के
जगदीश लववंशी
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
Harminder Kaur
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
कवि दीपक बवेजा
The life is too small to love you,
The life is too small to love you,
Sakshi Tripathi
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
श्रेष्ठ वही है...
श्रेष्ठ वही है...
Shubham Pandey (S P)
"नेवला की सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी खुशबू
तेरी खुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
"हश्र भयानक हो सकता है,
*Author प्रणय प्रभात*
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
gurudeenverma198
*मौत सभी को गले लगाती (हिंदी गजल/गीतिका)*
*मौत सभी को गले लगाती (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
Anil chobisa
मैंने नींदों से
मैंने नींदों से
Dr fauzia Naseem shad
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
Loading...