Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2023 · 1 min read

2522.पूर्णिका

2522.पूर्णिका
🌷सच कहती है दुनिया🌷
22 22 22
सच कहती है दुनिया।
दर्द सहती है दुनिया।।
बरसे बादल बरबस।
बस बहती है दुनिया ।।
नेक कर्मों से जीवन ।
खुश रहती है दुनिया ।।
पूनम का चाँद जहाँ ।
यूं चहती है दुनिया।।
अब छोड़ निशां खेदू।
कब ढ़हती है दुनिया।।
…….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
29-9-2023शुक्रवार

127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"The Divine Encounter"
Manisha Manjari
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
आस पड़ोस का सब जानता है..
आस पड़ोस का सब जानता है..
कवि दीपक बवेजा
🙏गजानन चले आओ🙏
🙏गजानन चले आओ🙏
SPK Sachin Lodhi
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
Shiva Awasthi
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
Anil "Aadarsh"
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
Ranjeet kumar patre
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
अस्थिर मन
अस्थिर मन
Dr fauzia Naseem shad
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मेरी जन्नत
मेरी जन्नत
Satish Srijan
***
*** " कभी-कभी...! " ***
VEDANTA PATEL
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
Loading...