Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2023 · 1 min read

2510.पूर्णिका

2510.पूर्णिका
🌹सब कुछ जानती है दुनिया 🌹
22 2122 22
सब कुछ जानती है दुनिया।
दुनिया मानती है दुनिया ।।
सपना जिंदगीभर देखो ।
यूं पहचानती है दुनिया।।
गम है तो खुशी भी दोस्तों ।
सीना तानती है दुनिया।।
रचते खुद कहानी अपनी ।
खाकें छानती है दुनिया ।।
बेहतरीन क्या है खेदू ।
भेजा चानती है दुनिया।।
……✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
28-9-2023गुरुवार

139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"आम"
Dr. Kishan tandon kranti
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
Sanjay ' शून्य'
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
■ सावधान...
■ सावधान...
*Author प्रणय प्रभात*
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
,...ठोस व्यवहारिक नीति
,...ठोस व्यवहारिक नीति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-397💐
💐प्रेम कौतुक-397💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
If your heart is
If your heart is
Vandana maurya
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
अपने अपने कटघरे हैं
अपने अपने कटघरे हैं
Shivkumar Bilagrami
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
2767. *पूर्णिका*
2767. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
गरीबी
गरीबी
Neeraj Agarwal
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagawan Roy
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
Ram Krishan Rastogi
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राम राज्य
राम राज्य
Shriyansh Gupta
Loading...