Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2023 · 1 min read

2480.पूर्णिका

2480.पूर्णिका
🌹एक ही थाल सजन खाने वाले🌹
212 2121 22 22
एक ही थाल सजन खाने वाले ।
रोज ही गाल ये बजाने वाले ।।
रंक भी है सियासत का राजा ।
महफिलें साज ये सजाने वाले ।।
सच किसी बात का न परवाह यहाँ।
मचलते देख ये खजाने वाले ।। चाँदनी रात चांद भी पूनम की ।
रौशनी शान में पजाने वाले ।।
सेंकते रोटियाँ कभी खेदू अब ।
पेट भरते भला न जाने वाले ।।
…….✍डॉ.खेदू भारती”सत्येश”
17-9-2023रविवार

210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
Ranjeet kumar patre
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मजे की बात है
मजे की बात है
Rohit yadav
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
दुष्यन्त 'बाबा'
"जीना-मरना"
Dr. Kishan tandon kranti
💐Prodigy Love-26💐
💐Prodigy Love-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कजरी
कजरी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
चल पनघट की ओर सखी।
चल पनघट की ओर सखी।
Anil Mishra Prahari
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
*अंतर्मन में राम जी, रहिए सदा विराज (कुंडलिया)*
*अंतर्मन में राम जी, रहिए सदा विराज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Sukoon
मुस्कान
मुस्कान
Neeraj Agarwal
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
सिद्धार्थ गोरखपुरी
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
गुप्तरत्न
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
■ मुक्तक-
■ मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
Loading...