Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

247. “पहली पहली आहट”

हिन्दी काव्य-रचना संख्या: 247.
शीर्षक: “पहली पहली आहट”
(सोमवार, 24 दिसम्बर 2007)
————————————

दस्तक दी है सर्दी की
पहली पहली आहट ने।
फैला दी है अपनी चादर
ठण्ड की कसावट ने।।
अंगडाई लेकर सुबह जगी
सूरज के सुहाने प्रकाश में।
चले सैर को पक्षी घनेरे
सिंदुरी आकाश में।।
अनोखा आकर्षण आने लगा
फूलों की खिलावट में।
दस्तक दी है सर्दी की
पहली- पहली आहट ने।।
धूप खिली धुंधला-सा मौसम
औंस से मानो धुल गया।
देख मनारम छटा सर्दी की
मतवाला मन मचल गया।।
कैसी- कैसी कही कहानी
कलम की पैनी लिखावट ने।
दस्तक दी है सर्दी की
पहली – पहली आहट ने।।

-सुनील सैनी “सीना”
राम नगर, रोहतक रोड़, जीन्द (हरियाणा)-126102.

1 Like · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हंसें और हंसाएँ
हंसें और हंसाएँ
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरे जीने की एक वजह
मेरे जीने की एक वजह
Dr fauzia Naseem shad
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
जाते-जाते गुस्सा करके,
जाते-जाते गुस्सा करके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
शेरू
शेरू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
सिकन्दर बनकर क्या करना
सिकन्दर बनकर क्या करना
Satish Srijan
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
गिरगिट
गिरगिट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
Pratibha Pandey
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
* बेटों से ज्यादा काम में आती हैं बेटियॉं (हिंदी गजल)*
* बेटों से ज्यादा काम में आती हैं बेटियॉं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
सच्चा प्यार
सच्चा प्यार
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...